तापविद्युतप्रभाव

मुक्तज्ञानकोशविकिपीडियासे
跳转到导航栏 跳到搜索

धातुओं के तापविद्युत् स्थिरांक

धातु लोहा इस्पात ताँबा टिन चाँदी जास्ता प्लैटिनम(मुलायम) प्लैटिनम(कठोर)
(一) +1734 +1139 + 136 -43 +214 + 234 -61 + 260
(B) -4.87 -3.28 + 0.95 +0.55 + 1.50 + 2.40 -1.10 -0.71

बिस्मथऔरताँबेकीसंधिकेलियेE = 45 T + 0.25 T ^ 2माइक्रोवोल्टहै।न्यूनतापपर(E), (T)कालगभगसमानुपातीहोताहै,किंतुयदि(T)बहुतअधिकहोतो(T2)कामानबढ़जाताहै।लोहे और ताँबे की संधि का e = 158 t - 0.0285t2माइक्रोवोल्टहै।जबतापT = 275सेल्सिसयहो,तबअधिकतमE = 2000माइक्रोवोल्ट।उच्चतापपकरEामानघटनेलगताहैतथा5500सेंडिग्रीयहशून्यहोजाताहै5500सें。सेअधिकतापबढ़नेपर(E)कीदिशाबदलजातीहैऔरविद्युतधाराविपरीतदिशामेंप्रवाहितदिशामेंप्रवाहितहोनेलगतीहै।इसप्रकारतापबढ़नेपरविद्युतधाराकाविपरीतदिशामेंप्रवाहितहोनातापविद्युत्प्रवाहकाउत्क्रमण(इन्वर्शन)कहलाताहैऔर550डिग्रीसेल्सियसउत्क्रमणताप।ताँबेऔरपैल्ट्ये(珀尔帖)प्रभाव

पेल्ट्ये प्रभाव दर्शाने के लिये प्रयुक्त परिपथ

1834年सन्मेंपेल्ट्येनेआविष्कृतकियाकिदोअसमानधातुओंकेपरिपथमेंविद्युतधाराप्रवाहितहोनेपरएकसंधिगरमऔरदूसरीसंधिठंडीहोजातीहै।जबविद्युतधारालोहेसेताँबेकीऔरप्रवाहितहोतीहैतोथॉमसन्(汤姆森)प्रभाव

1854年सन्मेंविलियमटॉमसननेआविष्कृतकियाकिएकहीधातुकेतारोंकेदोनोंसिरोंकेमध्यमेंविभवांतरहोताहै,यदिदोनोंसिरोंकेतापभिन्नहों।पेल्ट्येएवंथॉमसनप्रभावकेवलसैद्धातिकमहत्वकेहैं।इनका व्यावहारिक महत्व कम है।

जबएकपरिपथमेंकईतापांतरयुग्महोतेहैंऔरउनकीक्रमिकसंधियाँएकांतरत:गर्मऔरठंडीहोतीहैंतोकुलविद्युद्वाहकबलपरिपथमेंलगेहुएसबतापांतरयुग्मोंकेविद्युद्वाहकबलोंकेयोगकेबराबरहोताहै।इस तथ्य का उपयोगतापीयपुंज(热电堆)नामकनामकउपकरणमेंकरते,जिसमेंजिसमेंबिसमथऔरऐटिमनीकेछड़श्रेणीलगेरहतेरहतेइसउपकरणविकिरणविकिरणऊष्माकाकाएवंपतालगानेकेकेलियेकरतेकरतेइसइसउपकरणमेंजोजोविद्युतधाराउत्पन्नहैहैतापविद्युत संयोजन से विद्युत ऊर्जा उत्पादन

तापविद्युत्संयोजनोंद्वाराव्यापारिकउपयोगिताकीदृष्टिसेविद्युत्उत्पन्नकरनेकेअनेकप्रयासकिएगएहैं,किंतुजबयेप्रयासआंशिकरूपसेसफलहुएतोज्ञातहुआकिइनकाव्यापारिकमहत्वनगण्यहै।तापविद्युत्संयोजनद्वाराव्यापारिकदृष्टिसेविद्युत्उत्पन्नकरनेमेंदोप्रकारकीकठिनाइयाँहैं:सैद्धांतिकएंवसंरचनात्मक।पर्याप्तविद्युद्वाहकबलप्राप्तकरनेकेलियेबहुतअधिकसंयोजनोंकीआवश्यकताहोतीहैऔरअनुभवसेयहसिद्धहोचुकाहैकिअधिकसंश्लिष्टतापपुंजटिकाऊनहींहोता।यदिइसकठिनाईकोदूरभीकरदियाजायतोसैद्धांतिककारण,जोऊष्मागतिकीपरनिर्भरकरतेहैं,यहबतलातेहैंकिऊष्माउर्जाकोविद्युतउर्जामेंपरिवर्तितकरनेवालेतापपुंजकीइन्हेंभीदेखें